,

Godan


गोदान को प्रेमचंद का कालजयी उपन्यास माना जाता है। यह अपने समय का आईना है। इसमें कृषक जीवन की विडम्बनाओं का मार्मिक चित्रण मिलता है। उस समय की शायद ही कोई समस्या हो जिसका गहरा चित्रण ‘गोदान’ में नहीं मिलता।

Rs.100.00

Author – Premchand
ISBN – 9789350488300
Language – Hindi
Pages – 370

Weight .550 kg
Dimensions 7.50 × 5.57 × 2 in

Based on 0 reviews

0.0 overall
0
0
0
0
0

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

There are no reviews yet.