, , ,

Tibbat Ka Agyat Gupt Matha


प्रस्तुत पुस्तक अत्यन्त रहस्यमय योगिसिद्ध विभूति श्री शंकर स्वामी जी की अनुभूति का उनके ही शब्दों में अवतरित वाङ्मय स्वरूप है। वे इस जागतिक आयाम के निवासियों को इस ग्रंथ के माध्यम से उस इन्द्रियातीत जगत् की ओर उन्मुख होने का एक संदेश दे रहे हैं। इस ग्रन्थ में जो कुछ अंकित है, वह उनके प्रत्यक्ष (मंदार महल में लेखक श्रीमत् स्वामीजी के कायाशोधन संस्कार, नागार्जुन कृत आत्मिक गवेषणागार, प्राय: दो हजार वर्ष प्राचीन सिद्धाश्रम के पारिजात महल में युत्सुंग लामाजी का काया परित्याग एवं श्रीमत् स्वामीजी की आत्मा के त़ड़ित वेग से भूलोक की परिधि दिक्मंडल को पार कर नक्षत्रलोक की ओर धावमान के वृत्तांत आदि ) पर आधारित है। इसमें किञ्चित भी कल्पना का लेश नहीं है। आशा है कि वे इसी तरह अपने अलौकिक अनुभवों को ग्रंथरूप में सँजोकर भारत तथा विश्व के जिज्ञासुओं एवं सत्यान्वेषी लोगों को अनुप्राणित करते रहेंगे।

Rs.100.00

Best Seller Rank

#115 in Religious & Spiritual Literature (See Top 100 in Religious & Spiritual Literature)
#21 in Vishwavidyalaya Prakashan (See Top 100 in Vishwavidyalaya Prakashan)
#2 in बौद्ध, जैन एवं सिख साहित्य (See Top 100 in बौद्ध, जैन एवं सिख साहित्य)
#14 in संतों का जीवन चरित व वाणियां (See Top 100 in संतों का जीवन चरित व वाणियां)

तिब्बत का अज्ञात गुप्त मठ

Weight .150 kg
Dimensions 8.66 × 5.57 × 1.57 in

AUTHOR : Shrimat Shankar Swami
PUBLISHER : Vishwavidyalaya Prakashan
LANGUAGE : Hindi
ISBN : 9789387643451
BINDING : (PB)
PAGES : 76

Based on 0 reviews

0.0 overall
0
0
0
0
0

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

There are no reviews yet.