, , , , ,

Puranon Ki Kathayen- Harish Sharma


पुराणों की कथाएँ भारतवर्ष में ज्ञान संचय की दीर्घ परंपरा रही है। हमारे ऋषि-मुनियों तथा तपस्वियों के अनुभव और अनुसंधान पौराणिक साहित्य—वेद, पुराण, उपनिषद्, ब्राह्मण ग्रंथों आदि—में भरा पड़ा है। जीवन का ऐसा कोई क्षेत्र नहीं, जिसको इस ज्ञान से निर्देशन न मिलता हो। भारतीय जनमानस को यह अकूत ज्ञान पीढ़ी-दर-पीढ़ी मिलता रहा है। पुराणों में एक प्रकार से इतिहास-घटनाओं का विवरण ही है, परंतु इन्हें इतिहास नहीं कहा गया है, ये इतिहास से भिन्न हैं। जो ज्ञान पुराना होते हुए आज भी प्रासंगिक है, वही पुराण है। वैसे तो पुराण संख्या में काफी हैं, परंतु मुख्य पुराण अठारह ही हैं और सभी पुराणों में अलग-अलग विषयों का विवेचन किया गया है तथा मानव-कल्याण का मार्ग प्रशस्त किया गया है। इस प्रकार, विविध विषयी-ज्ञान से परिपूर्ण इन पुराणों का हिंदू मान्यताओं में महत्त्वपूर्ण स्थान है। जन्म से लेकर मृत्यु तक के मानव-संस्कार इन्हीं पर आधारित हैं। प्रस्तुत पुस्तक इन पुराणों की रोचक एवं ज्ञानवर्द्धक कथात्मक प्रस्तुति है।.

Rs.400.00

Best Seller Rank

#16 in Prabhat Prakashan (See Top 100 in Prabhat Prakashan)
#4 in Religious & Spiritual Literature (See Top 100 in Religious & Spiritual Literature)
#1 in अध्यात्म की अन्य पुस्तकें (See Top 100 in अध्यात्म की अन्य पुस्तकें)
#2 in अन्य कथा साहित्य (See Top 100 in अन्य कथा साहित्य)
#2 in अन्य कथेतर साहित्य (See Top 100 in अन्य कथेतर साहित्य)
#2 in धार्मिक पात्र एवं उपन्यास (See Top 100 in धार्मिक पात्र एवं उपन्यास)

Author – Harish Sharma

ISBN – 9789380186085

Language – Hindi

Pages – 192

Weight .494 kg
Dimensions 8.7 × 5.51 × 1.57 in

Based on 0 reviews

0.0 overall
0
0
0
0
0

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

There are no reviews yet.

0:00
0:00