,

Hindu Shreshthata – Harvilas Sharda Krit Sampurn Vishva ke Maapdand


हिन्दू श्रेष्ठता – हरविलास शारदा कृत सम्पूर्ण विश्व के मापदण्ड : विश्व के लगभग सभी बड़े देशों का इतिहास विस्मृति के कुहासे में लुप्त है, सभी देशों में बाह्य एवं आन्तरिक समाघातों और संघर्षों के कारण जीवन की परिस्थितियां बहुत बदली हैं। किन्तु व्यापक मानवता के लिए यही हितकारी है कि प्रत्येक महान् जाति के सुदूर अतीत तक का अधिक से अधिक ज्ञान प्राप्त हो सके। इसी उद्देश्य की पूर्ति करती है कि यह पुस्तक।

‘भारत वह स्त्रोत है जहां से न केवल शेष एशिया अपितु सारे पश्चिम जगत ने अपना ज्ञान और धर्म प्राप्त किए।’ – प्रोफेसर हीरेन
‘पृथ्वी पर रहने के लिए भारत सबसे अधिक रुचिकर स्थान है और विश्व का सबसे आनन्ददायक प्रदेश है।’ – अब्दुला वासफ

वर्तमान भला कैसे फलप्रद हो सकता है या भविष्य कैसे आशा दिला सकता है, यदि उनकी जड़े दृढ़ता से अतीत में गड़ी हुई न हो। प्रस्तुत पुस्तक में भारत देश के उस अतीतकालिक सभ्यता की एक झलक दिखाने का प्रयास है, जो अद्भुत, अतुलनीय एवं सर्वप्रकारेण आकर्षक थी। इस पुस्तक का उद्देश्य यही है कि प्राचीन हिन्दुओं के उदात्त चरित्र और अपूर्व उपलब्धियों का परिचय कराके मनुष्य को हिन्दू सभ्यता की श्रेष्ठता का मूल्यांकन करने में समर्थ बनाया जाए।

Rs.800.00

हिन्दू श्रेष्ठता – हरविलास शारदा कृत सम्पूर्ण विश्व के मापदण्ड

Weight .645 kg
Dimensions 8.7 × 5.51 × 1.57 in

Author : Harvilas Sharda, Priti Prabha Goyal
Language : Hindi
Edition : 2018
ISBN : 9788193423813
Publisher : RG GROUP

Based on 0 reviews

0.0 overall
0
0
0
0
0

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

There are no reviews yet.