, ,

Bhartiya Sanskriti ka Pravah


लेखक ने इस पुस्तक में भारत की संस्कृति के जीवन की गाथा सुनाने का यत्न किया है। भारत युग-युगांतरों के परिवर्तनों, क्रांतियों और तूफानों में से निकलकर आज भी उसी संस्कृति का वेष धारण किए विरोधी शक्तियों की चुनौतियों का उत्तर दे रहा है।
यद्यपि सदियों से काल चक्र हमारा शत्रु रहा है, तो भी हमारी हस्ती नहीं मिटी। इसकी तह में कोई बात है, वह बात क्या है? लेखक ने इन प्रश्नों का उत्तर देने का यत्न किया है।
यदि अतीत का अनुभव भविष्य का सूचक हो सकता है तो हमें आशा रखनी चाहिए की भविष्य में जो भी अंधड़ आयेंगे वह हमारी संस्कृति की हस्ती को न मिटा सकेंगे।

Rs.175.00

Best Seller Rank

#13 in Govindram Hasanand Prakashan (See Top 100 in Govindram Hasanand Prakashan)
#18 in ऐतिहासिक नगर, सभ्यता और संस्कृति (See Top 100 in ऐतिहासिक नगर, सभ्यता और संस्कृति)
#4 in सनातन हिंदू जीवन और दर्शन (See Top 100 in सनातन हिंदू जीवन और दर्शन)

भारतीय संस्कृति का प्रवाह

Weight .275 kg
Dimensions 8.6 × 5.51 × 1.57 in

Author : Pandit Indra Vidya Vachaspati
Publisher : Govindram Hasanand
Language : Hindi
ISBN : 9788170772613
Binding : (PB)
Edition : 2020
Pages : 254

Based on 0 reviews

0.0 overall
0
0
0
0
0

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

There are no reviews yet.