,

Ashtavakra Mahagita, Vol.05


युग बीते पर सत्य न बीता, सब हारा पर सत्य न हारा

सहज ज्ञान का फल है तृप्ति
यह भी समझने जैसा है–स्वच्छेन्द्रिय! फर्क को खयाल में लेना। अक्सर तुम्हारे धर्मगुरु तुम्हें समझाते हैं: ‘इंद्रियों की दुश्मनी। तोड़ो, फोड़ो, इंद्रियों को दबाओ, मिटाओ! किसी भांति इंद्रियों से मुक्त हो जाओ!’ अष्टावक्र का वचन सुनते हो: स्वच्छेन्द्रिय! इंद्रियां स्वच्छ हो जाएं, और भी संवेदनशील हो जाएंगी। ज्ञान का फल! यह वचन अदभुत है। नहीं, अष्टावक्र का कोई मुकाबला मनुष्य-जाति के इतिहास में नहीं है। अगर तुम इन सूत्रों को समझ लो तो फिर कुछ समझने को शेष नहीं रह जाता है। इन एक-एक सूत्र में एक-एक वेद समाया है। वेद खो जाएं, कुछ न खोएगा; अष्टावक्र की गीता खो जाए तो बहुत कुछ खो जाएगा। स्वच्छेन्द्रिय! ज्ञान का फल है: जिसकी इंद्रियां स्वच्छ हो गईं; जिसकी आंखें साफ हैं! ओशो

Rs.800.00

Chapter Titles

#1: सहज है जीवन की उपलब्धि
#2: श्रद्धा का क्षितिज: साक्षी का सूरज
#3: प्रभु की प्रथम आहट–निस्तब्धता में
#4: शूल हैं प्रतिपल मुझे आगे बढ़ाते
#5: धर्म एक आग है
#6: खुदी को मिटा, खुदा देखते हैं
#7: साक्षी आया, दुख गया
#8: प्रेम, करुणा, साक्षी और उत्सस-लीला
#9: सहज ज्ञान का फल है तृप्ति
#10: रसो वै सः

Weight .550 kg
Dimensions 8.66 × 7.25 × 2 in

AUTHOR: OSHO
PUBLISHER: Osho Media International
LANGUAGE: Hindi
ISBN: 9788172613723
PAGES: 318
COVER: HB
WEIGHT :550 GM

Based on 0 reviews

0.0 overall
0
0
0
0
0

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

There are no reviews yet.